Aman Samachar
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग न्यूज़स्वास्थ्य

स्तन की खुद जांच करने से स्तन कैंसर से मृत्यु दर 30-40% तक हो सकती है कम

महीने में एक बार साधारण जांच से हर साल हजारों भारतीय महिलाओं की बचाई जा सकती है जान

मुंबई [ अमन न्यूज नेटवर्क ] महीने में एक बार स्तन की खुद जांच करने का आसान काम भारत में स्तन कैंसर के 30-40% रोगियों के जीवन को बचा सकता हैजो वर्तमान में इस बीमारी से मर जाती हैं क्योंकि यह उन्नत अवस्था में पता चल जाता है।       जब कोई उपचार संभव नहीं है देश में सभी स्तन कैंसर रोगियों में से लगभग 75% पहले से ही बीमारी के चरण 3 या 4 में हैं और जब इसका पता चलता है। और उपचार किया जाता है तो उस स्थितिमें जीवित रहने की दर केवल 20% होती है।स्तन की खुद जांच करने के महत्व पर प्रकाश डालते हुए यह बात अमृता अस्पतालफरीदाबाद के मेडिकल ऑन्कोलॉजी (कैंसर) विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉसफलता बाघमार ने एक बैठक में कही है।    अक्टूबर को दुनिया भर में स्तन कैंसर जागरूकता माह के रूप में मनाया जाता है।   

         अमृता अस्पतालफरीदाबाद के मेडिकल ऑन्कोलॉजी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉसफलता बाघमार ने कहा: “अगर जल्दी पता चल जाए तो स्तन कैंसर का इलाज संभव है। अधिकांश लोगों को पता नहीं है कि 20-30 वर्ष की आयु वर्ग की युवा महिलाओं को भी स्तन कैंसर हो सकता है।  यह सलाह दी जाती है कि सभी महिलाएं जब20 वर्ष की हो जाती हैंतो बहुत प्रारंभिक अवस्था में स्तन कैंसर का पता लगाने के लिए महीने में एक बार स्तन की खुद से जांच शुरू करें। इसमें किसी भी विसंगति का पता लगाने के लिए स्तनों को देखना और महसूस करना शामिल है। यह जांच खुद से एवं  आसानी से की जाती है और इसमें केवल कुछ मिनट लगते हैं।यह स्तन कैंसर का जल्द पता लगाने में मदद कर सकती है। यदि चरण 1 में पता चल जाता है तो उचित उपचार से ठीक होने की 98-99% संभावना है। 

        यदि महिलाओं को स्तन के रंगरूपअनुभव या आकार में परिवर्तन या स्तन के ऊतकों में सूजनगांठ या मोटी जगह का पता चलता हैतो उन्हें तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।किसी स्थान पर दर्द होना या स्तनों की त्वचा पर गर्माहटलालिमा या काले धब्बे चिंता का कारण होते हैं। डॉ सफलता बाघमार नेकहा लगभग 30-40% रोगी जो वर्तमान में स्तन कैंसर से मरते हैंवे स्तन कीखुद जांच और शीघ्र निदान के साथ जीवित रह सकते हैं। हालांकिभारत में ज्यादातर महिलाएं यह नहीं जानती हैं कि स्तन की खुद जांच कैसे की जाती है। स्तन में गांठ होने पर भी वे इसे नजर अंदाज करती रहती हैं और अंततचरण 3 या 4 में डॉक्टर के पास आती हैं जब बचने की संभावना केवल 10-20% होती है। अब कई लक्षित उपचार हैं जो चरण 4 के रोगियों के जीवन काल को पहले के छह महीने के मुकाबले बढ़ाकर अब 4-5 साल कर सकते हैंलेकिन यह बीमारी का पूरी तरह से इलाज होने पर जल्दी पता लगाने का विकल्प नहीं है 

स्तन कैंसर के बढ़रहे मामलों के साथ अब स्तन कीखुद जांच और भी महत्वपूर्ण हो गई है। यदि पुरुष और महिलाओंमें कैंसर  केमामलों को मिला दिया जाएतो स्तन कैंसर की संख्या सबसे अधिक है। डॉक्टर ने कहा कि यह बढ़ते शहरीकरण और जंक फूड खानेमोटापा और गतिहीन जीवन शैली जैसे जोखिम वाले कारकों के कारण है। डॉसफलता बाघमार ने कहा “30 साल की उम्र के बाद देर से गर्भधारणया बिल्कुल भी बच्चा  होने से स्तन कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। कई कामकाजी महिलाएं बच्चे को स्तनपान नहीं कराने का फैसला करती हैं क्योंकि उन्हें बच्चे के जन्म के 2-3 महीने के भीतर फिर से कार्यालय में आना पड़ता है। यह बीमारी के लिए एक और जोखिम कारक है। स्तनपान स्तन कैंसर की संभावना को कम करता है।

संबंधित पोस्ट

डेंगू, मलेरिया को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी निवारक उपायों पर मनपा का जोर

Aman Samachar

महाआवास योजना के माध्यम से जिले में जरूरतमंदों को मिले गुणवत्तापूर्ण घर –  एकनाथ शिंदे

Aman Samachar

मलेरिया , डेंगू की रोकथाम के लिए मनपा आयुक्त ने दिए आवश्यक कार्यवाही के निर्देश

Aman Samachar

आवारा कुत्तों ने साढ़े चार हजार लोगों को बनाया अपना शिकार

Aman Samachar

मुलुंड कांग्रेस द्वारा छतरी वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया

Aman Samachar

 सफाई कार्य में लापरवाही हुई तो नहीं होगा भुगतान- मनपा आयुक्त म्हसाल

Aman Samachar
error: Content is protected !!