Aman Samachar
ब्रेकिंग न्यूज़
महाराष्ट्र

भारी बरसात से भिवंडी के किसानों की 4 हजार हेक्टेयर धान की फसल का नुकसान

 भिवंडी [ एम हुसैन ] इस वर्ष संतोषजनक बरसात  होने के  परिणाम स्वरूप  भिवंडी के किसानों के खेत में धान की फसल लहलहा रही थी।परंतु  पिछले दिनों हुई आकस्मिक बरसात  के कारण किसानों की हजारों एकड़ धान की फसल खराब हो गई थी। किसान अपने परिवार के साथ कड़ी मेहनत करके धान की कटाई करने के बाद उसके सूखने की प्रतीक्षा  कर ही रहे थे कि विगत चार दिनों से हो रही बरसात  से पूरी धान की फसल ही बर्बाद हो गई है। धान की कटाई करने के बाद खेतों में पानी भर जाने के कारण किसान उसे निकालकर भिवंडी-वाड़ा रोड के डिवाइडर सहित अन्य जगहों पर उसे सुखाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन रोजाना हो रही बरसात से धान गीला होकर सड़ जा रहा है। जिसके कारण उनकी धान की फसल मिट्टी के मोल हो गई है जो चिंता का विषय बना हुआ है । 
  उल्लेखनीय है कि भिवंडी तालुका के पड़घा,अंबाड़ी ,खानिवली ,वडवली ,अनगांव,कवाड़ ,कुंदे ,दिघाशी ,नांदकर ,बापगांव ,मुठवल,धामने,खारबांव ,पाये ,पायगांव ,खार्डी ,एकसाल ,सागांव ,जुनांदुर्खी ,टेंभवली ,पालीवली ,गाने,फिरंगीपाड़ा ,बासे ,मैदे ,पाश्चापूर,दुगाड़, खालींग ,चावे ,भरे लाप ,कुंभाराशिव ,आंबरराई ,खडकी ,भुईशेत ,पिंपलशेत ,माजीवडे , ईताडे ,झिडके एवं सावरोली सहित अन्य गांवो में लगभग 18 हजार हेक्टर खेत में धान की खेती की जाती है ।जिसमें 3 हजार हेक्टेयर खेत में देर में पकने वाली एवं 1 हजार हेक्टेयर में जल्दी पकने वाली धान की फसल काटने के लिए लगभग तैयार थी।जिसके कारण तैयार फसल की कटाई किसानों ने शुरू कर दिया था ,लेकिन रुक-रुककर हो रही तेज वापसी की बरसात के कारण खेतों में पानी भर जाने के कारण किसानों द्वारा काटी गई धान की फसल पानी में तैर रही है ।किसानों का कहना है कि कई दिनों से होने वाली बरसात  के कारण धान की फसल खेत में सड़ना शुरू हो गई है।किसानों ने बताया कि लगभग 4  हजार एकड़ की धान की फसल का नुकसान हुआ है।धान की फसल बर्बाद होने के कारण किसानों के लिए पूरे साल भर खाने की समस्या खड़ी हो जाएगी।किसानों ने बताया कि इस वर्ष अच्छी बरसात  होने के कारण सोना की तरह धान की फसल तैयार हुई थी, जिससे किसानों में बहुत  खुशी व्याप्त थी,लेकिन विगत चार दिनों से हो रही बरसात से उनकी खुशी पर पानी फिर गया है।आकस्मिक बरसात होने के  कारण खेतों में काटी गई धान की फसल का भारी नुकसान हुआ है, जिसके कारण कर्ज लेकर धान की खेती करने वाले किसानों की चिंता अधिक बढ़ गई है। खेत में पानी में पड़े धान का एक-एक दाना बचाने के लिए किसान कड़ी मेहनत करके भीगे हुए धान को सुखाने के लिए भिवंडी-वाड़ा रोड के डिवाइडर पर डाल रहे हैं। लेकिन रोज हो रही बरसात ने उनके मंसूबे पर पानी फेर दिया है। 
   उक्त संदर्भ में  पंचायत समिति,भिवंडी के  गटविकास अधिकारी डॉ प्रदीप घोरपडे ने बताया कि शासन से सूचना आने के बाद किसानों के नुकसान का पंचनामा शुरू कर दिया जाएगा ।  

संबंधित पोस्ट

धनबाद में भोजपुरी फ़िल्म दिल तुझको पुकारें की शूटिंग पूरी

Aman Samachar

कोरोना आर्थिक संकट से रहात देते हुए मनपा ने गणेशोत्सव मंडलों का मंडप किराया किया माफ़

Aman Samachar

विधानसभा अधिवेशन में जयंत पाटिल के निलंबन के खिलाफ राकांपा ने किया विरोध प्रदर्शन 

Aman Samachar

ठाणे जिले में आरटीई प्रवेश के तहत 25 हजार आवेदन 

Aman Samachar

अस्पताल के इंटरनेट का मासिक बिल 70 हजार , अस्पताल है या सायबर कैफे – नारायण पवार

Aman Samachar

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ठाणे शहर पुलिस ने पठाया देशभक्ति का पाठ

Aman Samachar
error: Content is protected !!