Aman Samachar
ब्रेकिंग न्यूज़
कारोबारब्रेकिंग न्यूज़

पीएनबी मुख्यालय में मनाया गया संविधान दिवस

मुंबई [ अमन न्यूज नेटवर्क ] सार्वजनिक क्षेत्र के देश के अग्रणी बैंक, पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) ने आज अपने नई दिल्ली स्थित मुख्यालय पर संविधान दिवस (कांस्टीट्यूशन डे) मनाया। इस अवसर पर पीएनबी एमडी एवं सीईओ श्री अतुल कुमार गोयल ने पीएनबी के कार्यपालक निदेशकों श्री विजय दुबे, श्री कल्यान कुमार, श्री बिनोद कुमार, और अन्य पीएनबी के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ संविधान दिवस के मौके पर प्रस्तावना का पाठ किया गया।

        इस अवसर पर पंजाब नैशनल बैंक के एमडी एवं सीईओ, श्री अतुल कुमार गोयल, ने कहा: “भारत में लोकतांत्रिक व्यवस्था सदियों से विकसित हो रही है और यह संकेत देती है कि भारत में प्रशासन की प्राचीन प्रणाली लोकतांत्रिक थी। आज जबकि हम संविधान दिवस (कांस्टीट्यूशन डे) मना रहे हैं तो हम संविधान का निर्माण करने वाले महान नेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं और हमारे देश के प्रति उनके दृष्टिकोण को आगे ले जाने के अपने संकल्प को पुनर्जीवित कर रहे हैं। हम एक संप्रभु राष्ट्र में जन्म लेने के लिए आभारी हैं जिसने सदा राष्ट्रीय एकता, न्याय व समानता के लिए प्रयास किया।”

        संविधान दिवस, जिसे राष्ट्रीय न्याय दिवस के तौर पर भी जाना जाता है, उस दिन की याद में मनाया जाता है जब 1949 में संविधान सभा ने भारतीय संविधान को अंगीकार किया था। भारत सरकार ने 2015 में नागरिकों में संविधान के मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता लाने के लिए नवंबर 26 को संविधान दिवस के रुप में मनाने के निर्णय लिया। इस दिवस का निर्धारण उस वर्ष में किया गया जब संविधान की ड्राफ्टिग कमेटी के सभापति डा. भीमराव अम्बेडकर की 125 जंयती मनायी जा रही थी।

संबंधित पोस्ट

25 साल में पहले रणजी ट्रॉफी मैच के लिए तैयार दादोजी कोंडदेव स्टेडियम – एकनाथ शिंदे

Aman Samachar

शातिर चैन स्नेचर को हिरासत में लेकर पुलिस ने उजागर किए तीन मामले

Aman Samachar

फनस्कूल ने छुट्टियों के मौसम से पहले 20 नए रोमांचक उत्पाद लॉन्च किए 

Aman Samachar

हरित भारत के लिए सिडबी ने स्वावलंबन चैलेंज फंड का किया शुभारंभ 

Aman Samachar

गांव को हमेशा स्वच्छ रखने के लिए सभी का योगदान महत्वपूर्ण – मुख्य कार्यकारी अधिकारी 

Aman Samachar

मेरा परिवर मेरी जिम्मेदारी जैसे मेरा मानसिक आरोग्य मेरी जिम्मेदारी की पहचान जरुरी  – डा. शिल्पा आडारकर 

Aman Samachar
error: Content is protected !!